गगन के देवता बृहस्पति देव

बृहस्पति देव

image

1) राजदरबार मे स्थिति -मंत्री, धर्म गुरु, धर्माधिकारी,

2)राशि स्वामी – धनु और मीन राशि का

3) दृष्टि- विशेष दृष्टि के रूप में खुद की स्थिति से  5वॉ और 9वॉ  भाव तथा स्वयं से सप्तम भाव

4) उच्च राशी- बृहस्पति कर्क में उच्च का हाेता है।  उच्चतम डिग्री 5डिग्री है।

5) नीच राशी – बृहस्पति मकर राशी मे नीच के होते है। निचतम डिग्री 5 डिग्री है।

6) बृहस्पति की मूलत्रिकोना राशि 0 डिग्री से 10 डिग्री के बीच धनु राशी में होता है। उसके बाद अपना घर होता है।

7) बृहस्पति जीवित प्राणियों के रूप में जीव पर शासन करते है।

8) दिवस – गुरुवार

9) मौसमों- हेमंत रितु

10)वर्ण- ब्राह्मण

11) वश्य -द्विपद (मानव)

12) प्राकृतिक कारक- संतान , ज्ञान, बुद्धि, भाग्य, धन, अध्ययन, आस्था,धर्म

13) शरीरांग- पेट, वसा ऊतकों

14) तत्व – गगन, आकाश, अंतरिक्ष

15) दोष – कफ

16) कद -लंबा

17) दूरी- मध्यम (शास्त्रीय 9 योजन)

18) दिशा- पुर्बोत्तर

20) आकार- अंडाकार

21) उदय विधि – सिरसोदय

22) वार का तरीका – सामने से

23) धातु- सोना, रत्न – पुखराज

24) प्रकृति –  प्राकृतिक सौम्य

25) स्वाद- मीठे स्वाद
26) खाद्य – मीठा खाना, वसायुक्त भोजन (लेकिन शुद्ध और प्राकृतिक), चना दाल, मक्खन, घी, शहद, चीनी और गुड़, क्रीम, स्क्वैश, प्राकृतिक फलों का रस (लेकिन मीठा और वसायुक्त), पीपरमेंट, पुदीना,मीठा वाइन (सोम रस),

27) फूल और पेड़- चमेली, जामुन, गन्ना, जैतून का तेल, बाग के पेड़, मीठा जड़ी बूटियों का पेड़, पीपरमेंट के पेड़, मीठे फलों के पेड़,

28) रंग- पीला

29) वस्त्र – औसत और साधारण

30) लिंग – पुरुष

31) गुण- सतगुण

32) नीति  -साम(काउंसिलिंग, समझा कर, हल करने के लिए बात करते हैं)

33) संगत – उपयुक्त संगत, एक-दूसरे के संगत को समझन वालेे, विद्वान, धार्मिक

34) आयु – परिपक्वता उम्र 16 साल,
व्यक्तिगत उम्र 30 साल,
आयु अवधि -57- 68 साल

35) स्थान -भंडारगृह , बैंक,लॉकर, न्यायालय, विश्वविद्यालय क्षेत्र, सोसायटी गिल्लियां,  विधानसभाओं, उच्च स्तरीय वित्तीय कंपनी या संस्थान, स्टॉक और कमोडिटी बाजार, मठों, धार्मिक महल, मिशन, किसी भी जगह जहां वित्तीय या धार्मिक या बुद्धिमानी काम

36) स्वभाव -मुलायम ,रहमदिल, कर्णप्रिय आवाज वाला जिसका आवाज दूर तक हो

37)मनोविज्ञान – विकास, आध्यात्मिक, धार्मिक, बुद्धि, विश्वास, प्रलय की क्षमता, विस्तार, मानवता, महान दृष्टिकोण, खुशी, आत्मविश्वास, भौतिकवादी दृष्टिकोण, नैतिकता, असाधारण आत्मविश्वास,

38) पेशे- धार्मिक कार्यकर्ता, शिक्षक, सलाहकार, रोजगार परामर्श, दर्शन, जज, विधायिका नौकरी,  कविता पाठ और शास्त्रों, ज्योतिषी, खगोल विज्ञान के अध्ययन ,योजना बनाने वाला, अंतरिक्ष से संबंधित नौकरियों, सरकारी नौकरी, पैसा उधार देने नौकरियाँ ,हाई प्रोफाइल नौकरियां

39) रोग – शरीर में वसा समस्या (मोटापा), लसीका, संचार समस्या़, ट्यूमर, लीवर की शिकायत , कान की समस्या, पेट की समस्या, अविश्वास  की मानसिकता समस्या,

40) देवता – इंद्र

41) समयाविधी- एक वर्ष की अवधि

42) दसावतार -वामन अवतार

For read in English click this link

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *