हस्ता नक्षत्र

हस्ता नक्षत्र

image

1) 13वीं नक्षत्र

2) अंग्रेजी नाम- गामा Corvi

3)नक्षत्र स्थिती– कन्या राशी मे 10 डिग्री से 23 डिग्री 20 मिनट तक

4) राशि स्वामी- बुध

5)विशोंतरी दशा स्वामी– चंद्रमा

6) देवता- सावित्री देवी ( या भगवान सूर्य)

7) प्रतीक- हस्त

8) वर्ण- वैश्य

9) वश्य – द्विपद(मानव)

10) गण-देव

11) गुण – राजसिक (रजोगुण)

12) योनि- महिषी

13)योनि वैर – अश्व

14) नाड़ी- आदि

15) दोष- वात्त दोष

16) गतिविधि – धैर्य

17)प्रकृति – सृष्टि

18)स्वाभव -क्षिप्र (मृदु)

19) दिशा- किनारे से

20) तत्व – अग्नि तत्व

21) भाग्यशाली रंग- गहरा हरा रंग

22)वर्ण — पू, ष, ण,ठ

23)सबसे विनाशकारी नक्षत्र – पुष्य

24) सबसे सहज नक्षत्र – स्वाति

25) सबसे असहज नक्षत्र – अश्विनी

26) विपत्त नक्षत्र – राहु द्वारा शासित नक्षत्र- स्वाति, शतभिषा, आद्रा

27) प्रत्यारी नक्षत्र – शनि शासित नक्षत्र – अनुराधा,उत्तरभद्रापद, पुष्य

28)बाधा नक्षत्र – केतु द्वारा शासित नक्षत्र – मूला, अश्विनी, माघा

29) मित्र नक्षत्र – शुक्र और सूर्य द्वारा शासित नक्षत्र – भरणी, पुर्वफाल्गुणी, पूर्वाषाढ़ा,कृतिका, उत्तरफाल्गुणी, उत्तराषाढ़ा

30) शारीरिक बनावट – सुंदर, आकर्षक, मजबूत शारीरिक गठन

31) व्यवहार – हस्ता नक्षत्र सभी तीन राजकीय ग्रहों (सूर्य, चंद्रमा, बुध) की शक्ति प्राप्त करता है अतः वे लोगों को नियंत्रित करने की शक्ति रखते है, लोगों को प्रेरित करने की क्षमता रखते है,लोगों को मोटिभेट करने की क्षमता रखते है । इसके अलावा वे वफादार, सहायक, दयालु होते है पर कभी कभार वै दूसरो को सज़ा देने समय क्रूर भी होते है।
चंद्रमा भावावेश का संकेत देता है, बुध आकर्षक और सौंदर्य का संकेत देता है।सूर्य और बुध के कारण वे बहुत अच्छे जानकार, अच्छी क्षमता, कुशाग्रता, और आत्मनियंत्रण की शक्ति प्राप्त करते है।
प्रतीक  हस्त है जो दर्शाता है कि वे कड़ी मेहनत करने वाले होते है।इसके अलावा हाथों में कला-कौशल, हाथों मे जादु या करिश्मा होेता है।
इसके अलावा वे आध्यात्मिक,तुरंत गुस्सा (लेकिने स्वयं पर नियंत्रण करने की क्षमता होती है।)

32) पेशा – प्रतीक हाथ है – वे बढ़ई, शिल्पकार, आदि जहाँ के हाथ की कला की जरूरत होतीहै, साथ ही यांत्रिक काम में जिसमे हाथों की कौशल की जरुरत हो, हस्तकला, ​​जादूगर, हाथों की सफाई वाले चोर, तकनीकी कौशल वाले कार्य।
बुध राशी स्वामी है अतः उद्यमी, व्यापार, परामर्श, आदि।
चंद्रमा के कारण – ध्यान, हीलिंग, आध्यात्मिक गतिविधि आदि
सूर्य देवता के कारण पावर यानि प्रशासनिक पोस्ट, पावरफुल पोस्ट आदि
इसके अलावा वे विवाद को सलटाने मे निपुण होते है अतः वे मध्यस्थ या इस प्रकार की नौकरियों कर सकते है।

To read in English click the link.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *