कुंडली के नवम भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के नवम भाव में पंचमेश का प्रभाव 1) कुंडली के नवम भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम पंचम भाव और नवम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से पंचम भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का पंचम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) नवम भाव पंचम भाव का भावत भावम भाव है, साथ ही पंचम भाव नवम भाव का भावत भावम भाव है, अतः पंचम भाव का स्वामी नवम भाव में स्थित […]

» Read more

कुंडली के अष्टम भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के अष्टम भाव में पंचमेश का प्रभाव 1) कुंडली के अष्टम भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए हम सर्वप्रथम पंचम भाव और अष्टम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से चतुर्थ भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का चतुर्थ भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) अष्टम भाव कुंडली का सबसे अशुभ भाव माना जाता है। अष्टम भाव कुंडली में वर्तमान जीवन के बुरे कर्मों को दर्शाता है। पंचम भाव कुंडली में पिछले जन्म के […]

» Read more

कुंडली के सप्तम भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के सप्तम भाव में पंचमेश का प्रभाव 1)कुंडली के सप्तम भाव में शनि का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम पंचम भाव और सप्तम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से तृतीय स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का तृतीय भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) साधारणतः पंचम भाव का स्वामी सप्तम भाव में शुभ नहीं माना जाता है। काल पुरुष की कुंडली में सूर्य पंचमेश होकर सप्तम भाव में नीच का होता है। अतः हम कह […]

» Read more

कुंडली के षष्ठम भाव मे पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के षष्ठम भाव मे पंचमेश का प्रभाव 1) कुंडली के षष्ठम भाव मे पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम षष्टम भाव और पंचम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से द्वितीय स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का द्वितीय भाव में क्या फल होता है, इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) पंचम भाव का स्वामी छठे भाव में शुभ नहीं माना जाता है क्योंकि छठा भाव दु:स्थान होता है और पंचम भाव शुभ स्थान होता है। साथ ही ऐसा माना जाता […]

» Read more

कुंडली के पंचम भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के पंचम भाव में पंचमेश का प्रभाव 1) कुंडली के पंचम भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम पंचम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से मैं स्थित है अतः पंचम अतः प्रथम भाव के स्वामी का प्रथम भाव में क्या फल होता है हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) पंचम भाव संतान से संबंधित होता है। यदि पंचम भाव का स्वामी पंचम भाव में स्थित हो तब जातक को उत्तम संख्या में संतान सुख प्राप्त होता है। जातक के बच्चे संस्कारी […]

» Read more

कुंडली के चतुर्थ भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के चतुर्थ भाव में पंचमेश का प्रभाव 1)कुंडली के चतुर्थ भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम चतुर्थ भाव और पंचम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से द्वादश भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का द्वादश भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) पंचम भाव त्रिकोण भाव है और चतुर्थ भाव केंद्र भाव है। अतः पंचम भाव का स्वामी चतुर्थ भाव में स्थित हों तब यह शुभ माना जाता है, क्योंकि त्रिकोण का […]

» Read more

कुंडली के तृतीय भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के तृतीय भाव में पंचमेश का प्रभाव 1)कुंडली के तृतीय भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम तृतीय भाव और पंचम भाव के नैसर्गिक कार्य के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से एकादश स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का एकादश भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) पंचम भाव और तृतीय भाव एक दूसरे से त्रि एकादश संबंध स्थापित करते हैं, जो एक उत्तम संबंध माना जाता है। अतः पंचम भाव का स्वामी तृतीय भाव में शुभ […]

» Read more

कुंडली के द्वितीय भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में पंचमेश का प्रभाव 1)कुंडली के द्वितीय भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम पंचम भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से दशम स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का दशम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) पंचम भाव और द्वितीय भाव एक दूसरे से चतुर्थ और दशम के संबंध स्थापित करते हैं जो कि एक शुभ संबंध माना जाता है। पंचम भाव का स्वामी द्वितीय भाव […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में पंचमेश का प्रभाव 1) कुंडली के प्रथम भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने से पहले सर्वप्रथम हम प्रथम भाव और पंचम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से नवम स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का नवम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2)पंचम भाव पिछले जन्म के पुण्य कर्मों से संबंधित होता है। प्रथम भाव जातक के वर्तमान जन्म से संबंधित होता है। यदि पंचम भाव का स्वामी प्रथम भाव में स्थित […]

» Read more

कुंडली के द्वादश भाव में चतुर्थेश का प्रभाव

कुंडली के द्वादश भाव में चतुर्थेश का प्रभाव 1) कुंडली के द्वादश भाव में चतुर्थेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम द्वादश भाव और चतुर्थ भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। जैसा कि हम जानते हैं कि चतुर्थ भाव का स्वामी स्वयं के भाव से नवम भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का नवम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) चतुर्थ भाव और द्वादश भाव दोनों एक दूसरे से नव-पंचम संबंध बनाते हैं। नव पंचम संबंध एक अच्छा संबंध माना जाता है। अतः […]

» Read more
1 2 3 4 5 25