कुण्डली मिलान हम क्यों करते है

कुण्डली मिलान – भाग -1   कुण्डली मिलान किसलिए और क्यों हमारी संस्कृति में कुण्डली मिलान शादी विवाह में महत्वपूर्ण माना जाता है। ज्यादातर लोगों सोचत हैे हम कुण्डली मिलान में क्या मिलान है???? उन सभी लोगों को एक लाइन सरल जवाब है हम दो कुण्डली में चंद्रमा की स्थिति और हालात मिलाते है। आप मे कुछ सोच रहे होगे आप क्या बकवास बात कर रहा है  ???? लेकिन यह सच है । चंद्रमा से हर कुण्डली में से बहुत सी बातें निर्धारित होती है। किसी भी संबध मे सबसे पहला चीज होती है आपस मे मन का मिलना। चंद्रमा […]

» Read more

चंद्रमा ग्रहो की रानी

चंद्रमा (चंद्रमा) 1)स्थिति- ग्रहो की रानी 2)राशि -कर्क राशी का स्वामी 3)पूर्ण दृष्टि- स्वयं से सप्तम भाव 4) उच्च राशी – वृषभ राशी , उच्च डिग्री 3 डिग्री 5) नीच राशी- वृश्चिक राशी, निच डिग्री 3 डिग्री 6) मूल त्रिकोना राशि 3डिग्री के बाद वृषभ में 30डिग्री तक होता है। 7) स्वयं की राशि कर्क है। 8) मित्र ग्रह -सूर्य, बुध 9) तटस्थ ग्रह -शुक्र ,शनि ,मंगल ,बृहस्पति 10) कोई ग्रह चंद्रमा के लिए शत्रु नही है। 11) दिन सोमवार है 12) मौसम वर्षा मौसम 13) चंद्रमा जलीय ग्रह  है 14) चंद्रमा का गुण सतगुण है 15) चंद्रमा वैश्य वर्ण […]

» Read more