नाड़ी मिलान कुण्डली मिलान भाग 12

नाड़ी मिलान     कुण्डली मिलान भाग 12 पिछले अंक मे हमने भूकूट मिलान के बारे मे जानकारी प्राप्त की। नाडी मिलान कुण्डली मिलान की प्रक्रिया में सबसे महत्वपूर्ण मिलान माना जाता है।इसे कुण्डली मिलान मे 8अंक आवंटित किया जाता है।संतान उत्पत्ति और स्वास्थ्य इस मिलान का मुख्य उद्देश्य है। यह माना जाता है कि एक नाड़ी वाले वर और कन्या के विवाह से संतान उत्पत्ति मे समस्या़ और संतान के स्वास्थय से संबंधित शिकायत हो सकती है। नाड़ी मिलान विधी जन्म नक्षत्र के आधार पर नाड़ी को 3 भाग मे  बांटा गया है। 1) आदि नाड़ी  –  जन्मनक्षत्र– अश्विनी, आद्रा, […]

» Read more