कुंडली के प्रथम भाव में सप्तमेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में सप्तमेश का प्रभाव 1)कुंडली के प्रथम भाव में सप्तमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम प्रथम भाव और सप्तम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। सप्तम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से प्रथम भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का सप्तम भाव में क्या फल होता है, हम इसके प्रभाव के बारे मे जानेंगे। 2) सप्तम भाव जीवनसाथी का कारक भाव होता है। यदि सप्तम भाव का स्वामी प्रथम भाव में स्थित हो तब जातक अपने नजदीकी रिश्तेदारी में या जान पहचान के महिला से शादी […]

» Read more