ग्रह मैत्री मिलान – कुण्डली मिलान भाग – 9

               ग्रह मैत्री गुण मिलान            कुण्डली मिलान भाग – 9 पिछले अंक मे हमने योनि मिलान की विधी की जानकारी प्राप्त की। ग्रह मेेैत्री गुण मिलान मे हम ग्रहो की प्राकृतिक मित्रता का मिलान करते है।चंद्रमा जब राशी विशेष मे हो तो उस राशी के स्वामी का चंद्रमा पर विशेष प्रभाव होता है।और जातक के मन पर ग्रह विशेष का प्रभाव होने से उसके आहार – व्यवहार पर भी उस ग्रह का प्रभाव होता है।  पहले हम हर राशि के स्वामी के बारे मे जानकारी लेते है 1) मेष राशि स्वामी मंगल ग्रह है । 2) वृष राशि स्वामी […]

» Read more