कुंडली के अष्टम भाव में चंद्रमा का प्रभाव

कुंडली के अष्टम भाव में चंद्रमा का प्रभाव 1)कुंडली के अष्टम भाव में चंद्रमा का प्रभाव जानने से पहले सर्वप्रथम हम चंद्रमा और अष्टम भाव के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) अष्टम भाव मृत्यु भाव के रूप में जाना जाता है, यदि बली चंद्रमा अष्टम भाव में अवस्थित हो जातक की आयु अच्छी होती है। लेकिन यदि अष्टम भाव में स्थित चंद्रमा कमजोर हो तब जातक मध्यम आयु या अल्पायु का हो सकता है। अष्टम भाव का चंद्रमा बालारिष्ट योग दोष का निर्माण करता है। जातक दुबला पतला और कमजोर कद काठी का हो सकता है। 3) […]

» Read more