रेवती नक्षत्र

रेवती नक्षत्र 1) 27th नक्षत्र 2) अंग्रेजी नाम- जेटा Piscium 3)नक्षत्र स्थिति – 16 डिग्री 40 मिनट मीन राशी से 30 डिग्री मीन राशी तक 4) राशि स्वामी – बृहस्पति 5)विशोंतरी दशा स्वामी – बुध 6) देवता – पूशान (आदित्यों में से एक) 7) प्रतीक –  बेलनाकार समय घड़ी 8) वर्ण- शूद्र लेकिन कुण्डली में ब्राह्मण मिलान 9)वश्य – जलचर 10) गण- देव 11) योनि- गज 12) योनि वैर – सिंह 13) नाड़ी – अंत्य 14) गतिविधि- संतुलित 15) प्रकृति– संहारक 16) प्रकृति- मृदु 17) दिशा- लेवल 18) लिंग- स्त्री लिंग 19) दोष – कफ 20) गुण – सात्विक 21) […]

» Read more

धनिष्ठा नक्षत्र

धनिष्ठा नक्षत्र 1) 23वीं नक्षत्र 2) अंग्रेजी नाम – बीटा Delphini /Avittam 3)नक्षत्र स्थिती – 23 डिग्री 20 मिनट मकर राशी से   6 डिग्री 40 मिनट कुंभ राशी मे 4) राशि स्वामी – शनि 5) विशोंतरी दशा स्वामी – मंगल ग्रह 6)देवता – आठ वसु  (अफा, ध्रुव, धरा, अनिला, अनला,प्रत्युषु,प्रवसु, सोम) 7) प्रतीक – मृदंगा/ ढ़ोलक / डमरु 8)वर्ण – दास, लेकिन कुण्डली मिलान में प्रथम  2पद वैश्य है और अंतिम 2पद शूद्र है। 9))वश्य – प्रथम 2पद जलचर है और अंतिम 2पद मानव या द्विपद है। 10) योनि – सिंह 11) योनि वैर – गज 12)गण – दानव 13) […]

» Read more

श्रवणा नक्षत्र

श्रवणा नक्षत्र 1) 22th नक्षत्र 2) अंग्रेजी नाम-α (अल्फा) Aquile या Altair 3)नक्षत्र स्थिति-10 डिग्री मकर राशि से  23 डिग्री 20 मिनट मकर राशी मे 4) राशि स्वामी – शनि 5)विशोंत्तरी दशा स्वामी – चंद्रमा 6)देवता – भगवान विष्णु या देवी सरस्वती 7)प्रतीक –   कान या गरुड़ का पंजा 8) वर्ण – मल्लेचछ लेकिन कुण्डली मिलान में वैश्य 9) वश्य – जलचर 10) योनि- वानर 11) योनि वैर – मेष 12) गण- देव 13) नाडी़- अंत्य 14) गुण – राजसिक (रजोगुण) 15) वर्ण – खी, खू,खे,खो 16) लकी कलर – लाइट ब्लू 17) गतिविधि- धैर्यवान 18)प्रकृति–सृष्टि 19) प्रकृति- चर 20) […]

» Read more

अनुराधा नक्षत्र

                   अनुराधा नक्षत्र 1) 17 वीं नक्षत्र 2) अंग्रेजी नाम- गामा Scorpii 3)नक्षत्र स्थिति- 3डिग्री 20मिनट से 16डिग्री 40मिनट तक वृश्चिक राशी तक मे 4) राशि स्वामी – मंगल ग्रह 5) विशोंतरी दशा स्वामी – शनि 6) देवता – मित्रा 7) प्रतीक – कमल के फूल/ फूलपत्ती सै सजा विजयी द्वार 8)वर्ण – शूद्र लेकिन  कुण्डली मिलान में यह ब्राह्मण के रूप में विचार किया जाता है। 9)वश्य – कीट 10) गण – देव 11) योनि – हिरण (मृग) 12) योनि वैर  – श्वान 13) नाड़ी- मध्य 14) दोष- पित्त 15) गतिविधियों – धैर्यवान 16)  प्रकृति – स्थिती 17)नेचर -मृदु(मुलायम) […]

» Read more

विशाखा नक्षत्र

             विशाखा नक्षत्र 1) 16 वीं नक्षत्र 2) अंग्रेजी नाम- अल्फा Libre 3)नक्षत्र स्थिति – 20डिग्री तुला राशी से 3 डिग्री 20 मिनट वृश्चिक राशी मे । 4) राशि स्वामी – पहले 3पद के स्वामी शुक्र और अंतिम पद के  स्वामी मंगल ग्रह है। 5) विशोंतरी दशा स्वामी – बृहस्पति 6)देवता – इन्द्राणि/ सतरागिणी 7) प्रतीक – एक विशाल वृक्ष फैली हुई शाखाओं के साथ 8) वर्ण – मल्लेचछ लेकिन कुण्डली मिलान मे  प्रथम 3पद मिलान शूद्र और अंतिम पद ब्राह्मण के रूप में विचार किया जाता है। 9)वश्य – प्रथम 3 पद मानव (द्विपद) और अंतिम चतुर्थ पद कीट […]

» Read more

स्वाति नक्षत्र

          स्वाति नक्षत्र 1) 15 वां नक्षत्र 2) अंग्रेजी नाम- आर्कटुरस (अल्फा Bootie) 3)नक्षत्र स्थिति – तुला राशी मे 6डिग्री 40 मिनट से 20 डिग्री तक 4) राशि  स्वामी – शुक्र 5)विशोंतरी दशा स्वामी – राहु 6) देवता – वायु देव 7)प्रतीक –  वायु के झोंके के प्रभाव मे नव अंकुरित पौधा 8)वर्ण – कसाई लेकिन कुण्डली मिलान में शूद्र 9)वश्य – द्विपद (मानव) 10) गण- देव 11) नाडी- अंत्य 12) योनि- महिषी 13) योनि वैर – अश्व 14) गतिविधि- धैर्य 15) प्रकृति- चर 16)प्रकृति – संहारक 17) दिशा – बग़ल से 18) लिंग – स्त्री लिंग 19) दोष – […]

» Read more

हस्ता नक्षत्र

हस्ता नक्षत्र 1) 13वीं नक्षत्र 2) अंग्रेजी नाम- गामा Corvi 3)नक्षत्र स्थिती– कन्या राशी मे 10 डिग्री से 23 डिग्री 20 मिनट तक 4) राशि स्वामी- बुध 5)विशोंतरी दशा स्वामी– चंद्रमा 6) देवता- सावित्री देवी ( या भगवान सूर्य) 7) प्रतीक- हस्त 8) वर्ण- वैश्य 9) वश्य – द्विपद(मानव) 10) गण-देव 11) गुण – राजसिक (रजोगुण) 12) योनि- महिषी 13)योनि वैर – अश्व 14) नाड़ी- आदि 15) दोष- वात्त दोष 16) गतिविधि – धैर्य 17)प्रकृति – सृष्टि 18)स्वाभव -क्षिप्र (मृदु) 19) दिशा- किनारे से 20) तत्व – अग्नि तत्व 21) भाग्यशाली रंग- गहरा हरा रंग 22)वर्ण — पू, ष, ण,ठ […]

» Read more

एक शब्द नक्षत्र के लिए

नक्षत्र 1) अश्विन — त्वरित कार्रवाई और अनुसंधान 2) भरनी — संहारक और विनिर्माणक 3) कृतिका – तीक्ष्ण काटने वाले 4)रोहिणी — विपरित लिंग को आकर्षित करने वाला 5)मृगशिरा  – खोजकर्ता 6) आद्रा — भ्रमित 7)पुनर्वसु – पुनर्उद्धार 8) पुष्य – शुभ और वृद्धि 9)अश्लेषा- जहरीली 10)मघा — भव्य 11)पुर्वफाल्गुणी — विपरीत लिंग की ओर आकर्षित 12)उत्तरफाल्गुणी- अपने बुद्धि से सत्य की खोज करने वाले 13)हस्ता — खुशी और पावर 14) चित्रा – ग्लैमरस 15) स्वाति – पवित्रता 16)विशाखा – जोश से भरा 17)अनुराधा – आध्यात्मिकता की ओर झुकाव 18)ज्येष्ठा — बडा़ 19)मूला — पाताल तक जड़ वाला 20)पुर्वाषाढा़– जलीय […]

» Read more