कुंडली के पंचम भाव में शनि का प्रभाव

कुंडली के पंचम भाव में शनि का प्रभाव 1)कुंडली के पंचम भाव में शनि का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम पंचम भाव और शनि के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) पंचम भाव को संतान से संबंधित भाव माना जाता है और शनि एक नैसर्गिक पापी ग्रह के रूप में पंचम भाव में पुत्र दोष का निर्माण करता है। यदि पंचम भाव स्थित शनि शुभ स्थिति में ना हो तब यह संतान के लिए उत्तम नहीं माना जाता है। जातक के संतान सुख में बाधा का कारण हो सकता है। यदि शनि पंचम भाव में अपने उच्च […]

» Read more