वश्य गुण मिलान – कुण्डली मिलान भाग – 4

      कुण्डली मिलान  भाग – 4              वश्य गुण मिलान पिछले अंक मे हमने वर्ण मिलान के बारे मे जानकारी प्राप्त की।वर्ण मिलान के बारे मे जानकारी को लिए लिंक पर क्लिक करे । कुण्डली मिलान की द्वितीय कूट गुना मिलान है वश्य मिलान । वश्य मिलान को 36 अंक मे से 2अंक आंवटित है। वश्य निर्धारण की विधी — प्रत्येक राशी की अपनी वश्य प्रकृति होती है।  मेष , वृष, धनु (अंतिम आधा भाग ) चतुष्पद राशी है। मिथुन, तुला, कन्या, धनु (प्रथम आधा भाग)और कुंभ राशि मानव या द्विपद राशी है। कर्क , मकर और मीन राशी जलचर […]

» Read more