कुंडली के एकादश भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के एकादश भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम बुध और एकादश भाव की कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) एकादश भाव उपचय भाव होता है, साथ ही यह लाभ भाव भी है। बुध एकादश भाव में अपने नैसर्गिक गुणों में बढ़ोतरी करता है। जातक आकर्षक और रुपवान व्यक्तित्व वाला व्यक्ति होता है। जातक बुद्धिमान होता है। जातक तर्क में उत्तम होता है। जातक ट्रिक और टेक्निक में एक्सपर्ट होता है। साथ ही जातक छल करने में भी चतुर होता है। 3) एकादश भाव में […]

» Read more

कुंडली के दशम भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के दशम भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के दशम भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम दशम भाव और बुध के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) सामान्यतः कुंडली के दशम भाव में बुध को शुभ नहीं माना जाता है, क्योंकि काल पुरुष की कुंडली में बुध छठे और तीसरे भाव का स्वामी है। अतः दशम भाव में स्थित बुध जातक को प्रोफेशनल लाइफ में बहुत ज्यादा संघर्ष और मेहनत करवाता है। लेकिन हर परिस्थिति में यह सत्य हो ऐसा भी नहीं है। फाइनल रिजल्ट दशम भाव में बुध की स्थिति पर […]

» Read more

कुंडली के नवम भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के नवम भाव में बुध का प्रभाव 1)कुंडली के नवम भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम बुध और नवम भाव के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) नवम भाव पिता से संबंधित होता है और जब बुध नवम भाव में स्थित हो तब जातक के अपने पिता से अच्छे संबंध होते हैं। जातक के पिता देखने में सुंदर और आकर्षक व्यक्तित्व वाले होते हैं। यदि बुध नवम भाव में पीड़ित हो तब जातक के अपने पिता से मतभेद हो सकते हैं। 3) नवम भाव धर्म से संबंधित होता है और बुध हमारे विचार […]

» Read more

कुंडली के अष्टम भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के अष्टम भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के अष्टम भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम बुध और अष्टम भाव के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) सामान्यतः अष्टम भाव में स्थित बुध अच्छा माना जाता है, क्योंकि यह जातक को एक अच्छा वक्ता, आदर देने वाला और मधुर वचन बोलने वाला व्यक्ति बनाता है। 3) बुध अष्टम भाव में जातक को दीर्घायु बनाने में सक्षम हैं, लेकिन जातक का स्वास्थ्य कमजोर रह सकता है। 4) अष्टम भाव में स्थित बुध के कारण जातक अपने परिवार का कर्ता होगा, जो अपनी परिवार की […]

» Read more

कुंडली के सप्तम भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के सप्तम भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के सप्तम भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम सप्तम भाव और बुध के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) सप्तम भाव में बुध को किसी भी प्रकार का दिग्बल प्राप्त नहीं होता है। अतः सप्तम भाव में बुध को अस्त माना जाता है। यही कारण है कि सप्तम भाव में स्थित बुध को शुभ नहीं माना जाता है। 3) सप्तम भाव में स्थित हो तब जातक की पत्नी सुंदर शिक्षित और धनी परिवार से संबंध रखने वाली होती है। 4) सप्तम भाव प्रमुख काम […]

» Read more

कुंडली के छठे भाव पर बुध का प्रभाव

कुंडली के छठे भाव पर बुध का प्रभाव 1) कुंडली के छठे भाव पर बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम छठे भाव और बुध के कार्य के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) छठा भाव एक उपचय भाव होता है अतः छठे भाव में स्थित बुध अपने प्रभावों को समय के साथ बढ़ाता है। जातक उत्तम वक्ता, उत्तम तार्किक क्षमता वाला, तीक्ष्ण मस्तिष्क वाला तथा बहुत ही अच्छी मानसिक शक्ति वाला व्यक्ति होता है। 3) षष्टम भाव शत्रु भाव होता है, अतः छठे भाव में स्थित बुध जातक को उसकी मानसिक शक्ति के कारण शत्रु पर विजय दिलाता […]

» Read more

कुंडली के पंचम भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के पंचम भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के पंचम भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम पंचम भाव और बुध के कारक के विषय में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) पंचम भाव संतान का भाव होता है और यदि बुध उत्तम स्थिति में पंचम भाव में स्थित हो तब यह संतान के लिए उत्तम मानी जाती है। जातक को अनेक कई पुत्र होंगे। जातक को अपने संतान का सुख मिलेगा। जातक के संतान देखने में सुंदर और अच्छे स्वभाव के होंगे। 3) पंचम भाव में स्थित बुध जातक को हंसमुख स्वभाव का बनाता है। जातक […]

» Read more

कुंडली के चौथे भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के चौथे भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के चौथे भाव में बुध के प्रभाव को जानने के लिए सर्वप्रथम हम चतुर्थ भाव और बुध के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) चतुर्थ भाव शिक्षा का कारक भाव माना जाता है, बुध भी शिक्षा का कारक ग्रह है। कुंडली के चतुर्थ भाव में बुध के होने के कारण जातक की शिक्षा अच्छी होती है और वह उच्च शिक्षा को प्राप्त करता है। 3) चतुर्थ भाव मन का कारक भाव होता है । चतुर्थ भाव में बुध जातक को बुद्धिमान बनाता है। जातक तीक्ष्ण बुद्धि का चतुर […]

» Read more

कुंडली के तृतीय भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के तृतीय भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के तृतीय भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम बुध और तृतीय भाव के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) तृतीय भाव में स्थित बुध जातक को उत्तम शारीरिक और मानसिक क्षमता देता है। जातक खेलकूद में उत्तम हो सकता है। जातक कड़ी मेहनत करने वाला व्यक्ति होगा। जातक अपनी मानसिक क्षमता के कारण आसानी से हार नहीं मानता है । वह जब किसी कार्य को शुरू करता है तो जब तक उसे समाप्त नहीं करता तब तक उसे चैन नहीं मिलता है। जातक बुद्धिमान […]

» Read more

कुंडली के द्वितीय भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में बुध का प्रभाव 1)कुंडली के द्वितीय भाव में बुध के प्रभाव को जानने के लिए सर्वप्रथम द्वितीय भाव और बुध के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) बुध को वाणी का कारक ग्रह माना गया है, अतः जातक को उत्तम वचन बोलने वाला व्यक्ति होगा। जातक उत्तम वक्ता होगा । वह बोलने में बुद्धिमान होगा । उसकी वाणी में मीठा पन होगा। वह उत्तम तर्कशक्ति से परिपूर्ण होगा। वह अपनी दार्शनिक विचारधारा प्रस्तुत करेगा। जातक एक उत्तम कवि या गायक हो सकता है। उसकी सीखने की क्षमता खासकर ओरल लर्निंग क्वालिटी बहुत ही उत्तम […]

» Read more
1 2