कुंडली के एकादश भाव में केतु का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में केतु का प्रभाव 1)कुंडली के एकादश भाव में केतु का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम केतु और एकादश भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2)एकादश भाव एक उपचय भाव होता है। केतु एक पापी ग्रह है। ऐसी मान्यता है कि पापी ग्रह उपचय भाव में उत्तम फल देते हैं। एकादश भाव में केतु सांसारिक सुख सुविधा के लिए उत्तम माना जा सकता है। जातक उत्तम धन अर्जित करेगा, उत्तम संपत्ति अर्जित करेगा। उसकी आदत संपत्ति को जमा करने की होगी। जातक सट्टा या सट्टेबाजी जैसे शेयर मार्केट, लॉटरी, घुड़सवारी इत्यादि […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में राहु का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में राहु का प्रभाव 1)कुंडली के एकादश भाव में राहु का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम राहु और एकादश भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) एकादश भाव उपचय भाव होता है और ऐसा माना जाता है कि नैसर्गिक पापी ग्रह उपचय भाव में शुभ फल देते हैं। अतः राहु एकादश भाव में उत्तम माना जाता है। 3) ऐसी मान्यता है कि राहु जिस भाव में स्थित होता है उस भाव के नैसर्गिक कारकत्व को यह बढ़ा देता है, खासकर भाव के भौतिकवादी फल को। अतः एकादश भाव जो कि लाभ […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में शनि का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में शनि का प्रभाव 1)कुंडली के एकादश भाव में शनि का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम एकादश भाव और शनि के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) ऐसी मान्यता है कि एकादश भाव एक उपचय भाव होता है और नैसर्गिक पापी ग्रह उपचय हाउस में शुभ फल देते हैं। अतः एकादश भाव में स्थित शनि जातक को शुभ रिजल्ट देने में सक्षम होता है। 3) उत्तम स्थिति में एकादश भाव में स्थित शनि जातक को दीर्घायु बनाता है। जातक का स्वास्थ्य उत्तम होता है। जातक बहादुर होता है। जातक निर्भिक होता है। […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में शुक्र का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में शुक्र का प्रभाव 1)कुंडली के एकादश भाव में शुक्र का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम शुक्र और एकादश भावों के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) एकादश स्थान लाभ स्थान है और शुक्र काल पुरुष की कुंडली में धन का स्वामी है। अतः एकादश भाव में स्थित शुक्र जातक को उत्तम धन प्रदान करेगा। जातक को सभी प्रकार के सांसारिक सुख और सुविधा के साधन उपलब्ध होंगे।एकादश भाव में स्थित शुक्र जातक को मनी माइंडेड भी बनाता है। 3) एकादश भाव जातक की मनोकामना का भी कारक होता है और शुक्र […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में गुरु का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में गुरु का प्रभाव 1) कुंडली के एकादश भाव में गुरु का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम गुरु और एकादश भाव के कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) गुरु को धन का कारक ग्रह माना जाता है और गुरु एकादश भाव यानी लाभ स्थान पर विराजित है, अतः हम यह कह सकते हैं कि जातक धनी होगा। जातक उत्तम लाभ अर्जित करेगा। जातक को सभी प्रकार के सांसारिक और भौतिक सुख उपलब्ध होंगे। जातक की सारी इच्छाएं पूर्ति होगी। जातक को अपने मित्रों का और नौकर चाकर का सहायता मिलेगा। जातक को किसी […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में बुध का प्रभाव 1) कुंडली के एकादश भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम बुध और एकादश भाव की कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) एकादश भाव उपचय भाव होता है, साथ ही यह लाभ भाव भी है। बुध एकादश भाव में अपने नैसर्गिक गुणों में बढ़ोतरी करता है। जातक आकर्षक और रुपवान व्यक्तित्व वाला व्यक्ति होता है। जातक बुद्धिमान होता है। जातक तर्क में उत्तम होता है। जातक ट्रिक और टेक्निक में एक्सपर्ट होता है। साथ ही जातक छल करने में भी चतुर होता है। 3) एकादश भाव में […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में मंगल का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में मंगल का प्रभाव 1)कुंडली के एकादश भाव में मंगल का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम मंगल और एकादश भाव के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) एकादश भाव में स्थित मंगल बली माना जाता है। मंगल काल पुरुष का लग्नेश है अतः एकादश भाव में यह कुंडली के बल को बढ़ाता है। जैसा कि हम जानते हैं नैसर्गिक पापी ग्रह उपचय भाव में शुभ फल देते हैं अतः एकादश भाव में स्थित मंगल जातक के लिए अच्छा माना जा सकता है। 3) मंगल एक्शन का कारक ग्रह है, अत: एकादश भाव में […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में चंद्रमा का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में चंद्रमा का प्रभाव 1)कुंडली के एकादश भाव में चंद्रमा का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम कुंडली के एकादश भाव और चंद्रमा के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) चंद्रमा हमारे मन का कारक होता है और यह एकादश भाव में स्थित है अतः जातक उच्च विचार वाला और अच्छी मानसिक क्षमता वाला व्यक्ति होगा। जातक प्रसन्नचित, बुद्धिमान, चतुर, बहादुर और निडर व्यक्ति होगा। 3) जातक आकर्षक व्यक्तित्व वाला व्यक्ति होगा। जातक दयालु और उत्तम व्यवहार वाला व्यक्ति होगा। जातक शांति प्रिय होगा। 4) एकादश भाव लाभ का भाव होता है। चंद्रमा एकादश […]

» Read more

कुंडली के एकादश भाव में सूर्य का प्रभाव

कुंडली के एकादश भाव में सूर्य का प्रभाव 1) कुंडली के एकादश भाव में सूर्य के प्रभाव को जानने से पहले सर्वप्रथम हम एकादश भाव और सूर्य के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) एकादश भाव लाभ स्थान है, साथ ही यह एक उपचय हाउस है । सूर्य एकादश भाव में जातक के नैसर्गिक रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। अतः हम कह सकते हैं कि जातक दीर्घायु होगा और उसका स्वास्थ्य उत्तम होगा। 3) सूर्य सरकार और प्रशासन का कारक होता है। सूर्य एकादश भाव में जातक को प्रशासन या सरकार द्वारा लाभ प्राप्त करवाता है। सूर्य […]

» Read more