कुंडली के प्रथम भाव में नवमेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में नवमेश का प्रभाव 1) कुंडली के प्रथम भाव में नवमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम प्रथम भाव और नवम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करते हैं। नवम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से पंचम भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का नवम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करते हैं। 2) नवम भाव और प्रथम भाव एक दूसरे से नव पंचम संबंध स्थापित करते हैं, जो कि एक उत्तम संबंध माना जाता है। नवम भाव भाग्य का कारक […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में अष्टमेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में अष्टमेश का प्रभाव 1)कुंडली के प्रथम भाव में अष्टमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम अष्टम भाव और प्रथम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। अष्टम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से छठे स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का छठा भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2)यदि अष्टम भाव का स्वामी प्रथम भाव में स्थित हो तब यह जातक के लिए अशुभ माना जाता है। अष्टम भाव दु:स्थान होता है और प्रथम भाव जातक से संबंधित होता […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में सप्तमेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में सप्तमेश का प्रभाव 1)कुंडली के प्रथम भाव में सप्तमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम प्रथम भाव और सप्तम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। सप्तम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से प्रथम भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का सप्तम भाव में क्या फल होता है, हम इसके प्रभाव के बारे मे जानेंगे। 2) सप्तम भाव जीवनसाथी का कारक भाव होता है। यदि सप्तम भाव का स्वामी प्रथम भाव में स्थित हो तब जातक अपने नजदीकी रिश्तेदारी में या जान पहचान के महिला से शादी […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में षष्ठेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में षष्ठेश का प्रभाव 1) कुंडली के प्रथम भाव में षष्ठेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम छठे भाव और प्रथम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। छठा भाव का स्वामी स्वयं के भाव से अष्टम भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का अष्टम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) छठा भाव दु:स्थान होता है। प्रथम भाव लग्न स्थान होता है और बहुत ही शुभ भाव माना जाता है। अतः छठे भाव के स्वामी का प्रथम भाव में स्थित […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में पंचमेश का प्रभाव 1) कुंडली के प्रथम भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने से पहले सर्वप्रथम हम प्रथम भाव और पंचम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से नवम स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का नवम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2)पंचम भाव पिछले जन्म के पुण्य कर्मों से संबंधित होता है। प्रथम भाव जातक के वर्तमान जन्म से संबंधित होता है। यदि पंचम भाव का स्वामी प्रथम भाव में स्थित […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में चतुर्थेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में चतुर्थेश का प्रभाव 1)कुंडली के प्रथम भाव में चतुर्थेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम प्रथम भाव और चतुर्थ भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। चतुर्थ भाव का स्वामी स्वयं के भाव से दशम स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का दशम भाव में क्या फल होता है, हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) चतुर्थ भाव सुख का कारक भाव है, प्रथम भाव जातक से संबंधित होते हैं। प्रथम भाव में स्थित चतुर्थेश जातक को सभी प्रकार की सुख-सुविधा के साधन उपलब्ध कराता है, […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में तृतीयेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में तृतीयेश का प्रभाव 1)कुंडली के प्रथम भाव में तृतीयेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम प्रथम भाव और तृतीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। तृतीय भाव का स्वामी स्वंय के भाव से एकादश भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का एकादश भाव में क्या फल होता है हम इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। 2) तृतीय भाव क्षमता और साहस का अभाव होता है जब तृतीय भाव का स्वामी प्रथम भाव में स्थित हो तब जातक बहादुर और उत्तम शारीरिक क्षमता वाला व्यक्ति होता है। […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में द्वितीयेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में द्वितीयेश का प्रभाव 1)कुंडली के प्रथम भाव में द्वितीयेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम प्रथम भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। द्वितीयेश प्रथम भाव में स्थित होकर द्वी – द्वादश संबंध का निर्माण करता है, अर्थात द्वितीय अपने भाव से बारहवें भाव में स्थित है। अतः प्रथम भाव का स्वामी जब द्वादश भाव में होता है तब इसका प्रभाव क्या होता है, इसके बारे में भी हमें जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। 2) द्वितीय भाव धन से संबंधित होता है, जब द्वितीय भाव का स्वामी लग्न में […]

» Read more

कुंडली के द्वितीय भाव में लग्नेश का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में लग्नेश का प्रभाव 1)कुंडली के द्वितीय भाव में लग्नेश का प्रभाव जानने से पहले हम प्रथम भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) द्वितीय भाव धन भाव होता है। प्रथम भाव का स्वामी द्वितीय भाव में स्थित हो तब जातक धन के संदर्भ में भाग्यशाली होता है। जातक की आर्थिक स्थिति अच्छी होती है। जातक उत्तम धन अर्जित करता है। जातक उत्तम लाभ अर्जित करता है। यदि प्रथम भाव के स्वामी के साथ द्वितीयेश द्वितीय भाव में स्थित हो तब जातक ग्रहों की प्रकृति के अनुसार अकूत मात्रा […]

» Read more

कुंडली के प्रथम भाव में लग्नेश का प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में लग्नेश का प्रभाव 1) कुंडली के प्रथम भाव में लग्नेश का प्रभाव जानने से पहले हम प्रथम भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। 2) प्रथम भाव को लग्न भाव के रूप में भी जाना जाता है और प्रथम भाव के स्वामी को लग्नेश करते हैं। कुंडली में लग्न हमारा प्राण होता है अतः इस प्रकार से लग्नेश हमारा प्राणेश है। प्रथम भाव का स्वामी प्रथम भाव में स्थित होने से प्रथम भाव को बल प्राप्त होता है। अतः हम कह सकते हैं कि जातक के प्राण को बल प्राप्त हुआ अर्थात […]

» Read more
1 2