कुंडली के अष्टम भाव में बुध का प्रभाव

कुंडली के अष्टम भाव में बुध का प्रभाव


1) कुंडली के अष्टम भाव में बुध का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम बुध और अष्टम भाव के कारक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।


2) सामान्यतः अष्टम भाव में स्थित बुध अच्छा माना जाता है, क्योंकि यह जातक को एक अच्छा वक्ता, आदर देने वाला और मधुर वचन बोलने वाला व्यक्ति बनाता है।


3) बुध अष्टम भाव में जातक को दीर्घायु बनाने में सक्षम हैं, लेकिन जातक का स्वास्थ्य कमजोर रह सकता है।


4) अष्टम भाव में स्थित बुध के कारण जातक अपने परिवार का कर्ता होगा, जो अपनी परिवार की जिम्मेदारी को उठाएगा। जातक किसी संस्था या इंडस्ट्री का प्रधान व्यक्ति हो सकता है। पौराणिक ज्योतिष के शास्त्रों के अनुसार अष्टम भाव में स्थित बुध जातक को राजा के समान व्यक्ति बनाता है। अतः हम कर सकते हैं कि जातक के प्रसिद्ध व्यक्ति होगा या किसी प्रकार का सम्मान प्राप्त करेगा जिससे वह दूर-दूर तक प्रसिद्ध हो सकता है।


5) अष्टम भाव में स्थित बुध जातक को धनवान बनाता है। ऐसा संभव है कि जातक गुप्त स्रोत से धन अर्जित करें। साथ ही जातक अपने खुद के बुद्धि और विवेक से भी धन अर्जित करता है।


6) अष्टम भाव में स्थित बुध जातक को भिन्न – भिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित कर सकता है। जातक को श्वास संबंधी समस्या या फेफड़ों से संबंधित समस्या हो सकती है। जातक न्यूरोलॉजिकल या नसों से संबंधित समस्या से ग्रसित हो सकता है। यदि बुध बुरी तरह पीड़ित हो तब जातक मानसिक समस्या से ग्रसित रह सकता है।


7) अष्टम भाव में स्थित भूत जातक को गुप्त विद्या या गुप्त ट्रिक का ज्ञान दे सकता है जातक तीक्ष्ण बुद्धि वाला हो सकता है।


8) अष्टम भाव में स्थित बुध जातक के अपने रिश्तेदारों और मित्रों से संबंध खराब कर सकता है जातक बेवजह सोच सोच कर या अपने रिश्तेदारों या मित्रों के प्रति अफवाह से ग्रसित होकर उनसे संबंध खराब कर सकता है।


9) यदि बुध अष्टम भाव में उत्तम स्थिति में हो तब जातक रिसर्च वर्क में इंटरेस्टेड होगा। जातक पीएचइडी या अन्य दूसरे रिसर्च कार्यो में अध्ययन करेगा। यदि अष्टम भाव में स्थित बुध पीड़ित हो तब जातक अपनी शिक्षा में परेशानी का सामना करेगा।


10)यदि बुध अष्टम भाव में केतु या मंगल से पीड़ित हो तब जातक को त्वचा से संबंधित समस्या का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही जातक को एलर्जी या मानसिक अवसाद से भी पीड़ित होना पड़ सकता है। यदि अष्टम भाव में स्थित बुध शुक्र और मंगल या चंद्रमा के प्रभाव में हो तब जातक का सीक्रेट अफेयर हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *